class 10 geography chapter 6 question answer in hindi

NCERT

books Name – सामाजिक विज्ञान – समकालीन भारत – 2

Class – 10th

Subject – geography

Chapter – 6. विनिर्माण उद्योग

अभ्यास

Q. 1. बहुवैकल्पिक प्रश्न

( i ) निम्न से कौन- सा उद्योग चूना पत्थर को कच्चे माल के रूप में प्रयुक्त करता है?

( क ) एल्यूमिनियम          ( ग ) सीमेंट

( ख ) चीनी                      ( घ ) पटसन

( ii ) निम्न से कौन- सी एजेंसी सार्वजनिक क्षेत्र में स्टील को बाजार में उपलब्ध कराती है?

( क ) हेल ( HAIL )           ( ग )  टाटा स्टील

( ख ) सेल ( SAIL )        ( घ ) एम एन सी सी ( MNCC )

( iii ) निम्न से कौन- सा उद्योग बॉक्साइट को कच्चे माल के रूप में प्रयोग करता है?

( क ) एल्यूमिनियम      ( ग ) पटसन

( ख ) सीमेंट                 ( घ ) स्टील

( iv ) निम्न से कौन- सा उद्योग दूरभाष, कंप्यूटर आदि संयंत्र निर्मित करते हैं?

( क ) स्टील                  ( ग ) इलेक्ट्रॉनिक

( ख ) एल्यूमिनियम      ( घ ) सूचना प्रौद्योगिकी

Q. 2. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिएl

( i ) विनिर्माण क्या है?

उत्तर – कच्चे पदार्थ को मूल्यवान उत्पाद में परिवर्तित कर अधिक मात्रा में वस्तुओं के उत्पादन को विनिर्माण कहा जाता हैl कागज लकड़ी से, चीनी गन्ने से, एलुमिनियम बॉक्साइट से निर्मित होते हैंl

( ii ) उद्योगों की अवस्थिति को प्रभावित करने वाले तीन भौतिक कारक बताइए?

उत्तर – उद्योगों की अवस्थिति को प्रभावित करने वाले भौतिक कारक

  1. भूमिकी उपलब्धता
  2. कच्चा माल
  3. जल

( iii ) औद्योगिक अवस्थिति को प्रभावित करने वाले तीन मानवीय कारक बताइए?

उत्तर – औद्योगिक अवस्थिति को प्रभावित करने वाले मानवीय कारक-

  1. श्रमिक
  2. पूंजी
  3. शक्ति के साधन
  4. परिवहन
  5.  बाजार

( iv ) आधारभूत उद्योग क्या है? उदाहरण देकर बताए?

उत्तर – वे उद्योग जो खनिज व धातुओं को कच्चे माल के रूप में प्रयोग करते हैंl खनिज आधारित उद्योग कहलाते हैं लोहा तथा इस्पात उद्योग एक आधारभूत उद्योग है क्योंकि अन्य सभी भारी, हल्के और मध्यम उद्योग इनसे बनी मशनरी पर निर्भर हैl

Q.3. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लगभग 120 शब्दों में दीजिएl

( i ) समंवित इस्पात उद्योग मिनी इस्पात उद्योगों से कैसे भिन्न है? इस उद्योग की क्या समस्याएं हैं? किन सुधारों के अंतर्गत इसकी उत्पादन क्षमता बढ़ी है?

उत्तर –

इस समय भारत में 10 मुख्य संकलित उद्योग तथा बहुत से छोटे इस्पात संयंत्र हैl एक संकालीन इस्पात संयंत्र एक बड़ा संयंत्र होता है जिनमें कच्चे माल को एक स्थान पर एकत्रित करने से लेकर इस्पात बनाने उसे ढालने और उसे आकार देने तक की प्रत्येक क्रिया की जाती हैl मिनी इस्पात उद्योग छोटे संयंत्र है जिनमें विद्युत भट्टी, रद्दी, इस्पात व स्पंज आयरन का उपयोग होता हैl इनमें रि – रोलर्स होते हैं जिनमें इस्पात सिल्लियों का इस्तेमाल किया जाता है यह हल्के स्टील या निर्धारित अनुमान के मृदु व मिश्रित इस्पात का उत्पादन करते हैंl भारत संसार का एक महत्वपूर्ण लौह- इस्पात उत्पादक देश है तथापि हम इनके पूर्ण संभाव्य का विकास नहीं कर पाए हैंl

  • उच्च लागत तथा कोकिंग कोयला की सीमित उपलब्धता
  • कम श्रमिक उत्पादकता
  • ऊर्जा की अनियमित
  • अविकसित अवसंरचना आदि.

निजी क्षेत्र में उद्यमियों के प्रयत्न से तथा उदारीकरण व प्रत्यक्ष विदेशी निवेश ने इस उद्योग को प्रोत्साहन दिया है इस्पात उद्योग को अधिक स्पर्धावन बनाने के लिए अनुसंसाधन और विकास के संसाधनों को नियत करने की आवश्यकता हैl

( ii ) उद्योग पर्यावरण को कैसे प्रदूषित करते हैं?

उत्तर –

उद्योगों की भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि व विकास में महत्वपूर्ण भूमिका है तथापि इनके द्वारा बढ़ते भूमि, वायु, जल तथा कार्य पर्यावरण प्रदूषण को भी नकारा नहीं जा सकताl उद्योग चार प्रकार के प्रदूषण के लिए उत्तरदायी हैl वायु, जल, भूमि, ध्वनि आदीl
वायु प्रदूषण – सल्फर डाइऑक्साइड तथा कार्बन मोनो ऑक्साइड वायु प्रदूषण के कारक हैl रसायन व कागज उद्योग, ईटों के भट्टे, तेल शोधनशालाए प्रगलन उद्योग जीवाश्म ईंधन दहन तथा छोटे बड़े कारखाने प्रदूषण के करते हैं जहरीली गैसों का रिसाव बहुत भयानक तथा दूरगामी प्रभावों वाला हो सकता है. वायु प्रदूषण, मानव स्वास्थ्य, पशुओं, पौधों इमारतों तथा पूरे पर्यावरण पर दुष्प्रभाव डालते हैंl

जल प्रदूषण – उद्योगों द्वारा कार्बनिक और अकार्बनिक अपशिष्ट पदार्थों के नदी में छोड़ने से जल प्रदूषण फैलता है जल प्रदूषण के प्रमुख कारक- कागज लगदी, रसायन, वस्त्र तथा रंगाई उद्योग, तेल शोधनशालाए, चमड़ा उद्योग तथा इलेक्ट्रोप्लेटिंग उद्योग है जो रंग, अपमार्जन, अम्ल, लवण तथा भारी धातुएं जैसे सीसा, पारा, कीटनाशक, उर्वरक, कार्बन, प्लास्टिक और रबर सहित कृत्रिम रसायन आदि जल में वाहित करते हैंl

तापीय प्रदूषण – जब कारखानों तथा तापधरो से गर्म जल को बिना ठंडा किए ही नदियों तथा तालाबों में छोड़ दिया जाता है तो जल में तापीय प्रदूषण होता हैl परमाणु ऊर्जा संयंत्रों के अवशिष्ट परमाणु शस्त्र उत्पादन कारखानों से कैंसर, जन्मजात विकार तथा अकाल प्रसव जैसी बीमारियां होती हैl

ध्वनि प्रदूषण – औद्योगिक तथा निर्माण कार्य, कारखानो के उपकरण, जेनरेटर, लकड़ी चीरने के कारखाने, गैस यांत्रिकी तथा विद्युत ड्रिल भी अधिक ध्वनि उत्पन्न करते हैं इस प्रकार ऊपर दिए गए सभी कारक पर्यावरण प्रदूषित करते हैंl

( iii ) उद्योगों द्वारा पर्यावरण निम्नीकरण को कम करने के लिए उठाए गए विभिन्न उपायों की चर्चा करें ?

उत्तर –

उद्योगों द्वारा पर्यावरण निम्नीकरण को कम करने के लिए उपाय

  • विभिन्ना प्रक्रियाओं में जल का न्यूनतम उपयोग तथा जल का दो या अधिक उत्तरोत्तर अवस्थाओं में पुनर्चक्रण द्वारा पुनः उपयोग
  • जल की आवश्यकता पूर्ति हेतु वर्षा जल संग्रहण
  • नदियों तथा तालाबों में गर्म जल तथा अपशिष्ट पदार्थों को प्रवाहित करने से पहले उनका शोधन करना औद्योगिक अपशिष्ट का शोधन तीन चरणों में किया जा सकता हैl
  • यांत्रिक साधनों द्वारा प्राथमिक शोधण इसमें अपशिष्ट पदार्थों की छंटाई उनके छोटे-छोटे टुकड़े करना ढकना तथा तलछट जमाव आदि सम्मिलित है
  • जैविक प्रक्रियाओं द्वारा द्वितीक शोधन
  • जैविक, रासायनिक तथा भौतिक प्रक्रियाओं द्वारा तृतीयक शोधन इसमें अपशिष्ट जल को पुनर्चक्रण द्वारा पुनः प्रयोग योग्य बनाया जाता है
  • जहां भूमिगत जल का स्तर कम है वहां उद्योगों द्वारा इसके अधिक निष्कासन पर कानूनी प्रतिबंध होना चाहिए
  • वायु में निलंबित प्रदूषण को कम करने के लिए कारखानों में ऊंची चिमनीयां, चिमनीयों में इलेक्ट्रोस्टेटिक अवक्षेपण, स्क्रबर उपकरण तथा गैसीय प्रदुषण पदार्थों को जडत्वीय रूप से पृथक करने के लिए उपकरण होना चाहिये
  • कारखानों में कोयले की अपेक्षा तेल व गैस का प्रयोग से धुएँ के निष्कासन में कमी लायी जा सकती हैl
  • सतत पोषणीय विकास की चुनौतियों के लिए पर्यावरणीय संचेतना से युक्त आर्थिक विकास की जरूरत हैl

class 10 geography chapter 6

 

यह भी पढ़े – class 10 geography chapter 5 question answer in Hindi

Leave a Reply